अगर Taxable नहीं है आपकी Income, फिर भी फाइल करें ITR – होंगे ये फायदे

Benefits to file Income Tax Return when you do not have taxable income: आमतौर पर देखा जाता है कि जिन लोगों की इनकम टैक्सेबल होती है वही लोग ही Income Tax Return फाइल करते हैं। जिन लोगों की इनकम टैक्सेबल ब्रैकेट में नहीं होती है, वे इनकम टैक्‍स रिटर्न नहीं भरते हैं। हालांकि इससे बचा जाना चाहिए। इनकम टैक्सेबल नहीं होने पर भी आईटीआर फाइल करना चाहिए। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि आय कर योग्य न होने पर भी ITR फाइल करने के क्‍या फायदे होते हैं –

बैंक लोन लेना आसान (Easy to take bank loan)

अगर आपकी आय taxable नहीं है और आप इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करते हैं तो आपके लिए बैंक से लोन मिलना आसान हो जाएगा। बैंक ऋण देने से पहले इनकम टैक्‍स रिटर्न की मांग सबसे पहले करता है। बैंक लोन सेंक्शन करने से पहले लोन लेने वाले व्‍यक्ति का तीन साल की ITR मांगता है। इनकम टैक्स रिटर्न यह दर्शाता है कि आपका ट्रैक रिकॉर्ड बेहतर है। बैंक आपके आईटी रिटर्न को देखते हुए आसानी से ऋण दे देता है।

TDS क्लेम करने के लिए (To Claim TDS)

अगर आपको किसी भी स्थान से हुई आय पर टीडीएस कटा है तो इसे क्‍लेम करने का एकमात्र जरिया है ITR फाइल करना। बैंक आपके जमा पर मिलने वाले ब्याज (10,000 रुपए से अधिक) पर टीडीएस काटता हो या retail income पर टीडीएस कटा हो,  इसे प्राप्‍त करने के लिए आपको इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल करना होगा। ITR फाइल कर आप कटे हुए टीडीएस को claim कर अपना पैसा वापस प्राप्‍त कर सकते हैं।

benefits-to-file-income-tax-return-when-you-do-not-have-taxable-income
ITR e-filling website link

वीजा लेना बिल्कुल आसान (For VISA purpose)

आपके द्वारा वीजा के लिए apply करने पर authority द्वारा इनकम टैक्स रिटर्न की मांग सबसे पहले की जाती है। IT Return यह show करता है कि आपका track record बेहतर है। वीजा लेने में इनकम टैक्‍स रिटर्न की कॉपी मांगी जाती है। इनकम टैक्‍स की कॉपी नहीं होने पर वीजा मिलना थोड़ा कठिन हो जाता है।

यह भी पढें – Income Tax Return फाइल करने के लिए क्या चाहिए?

Taxable Income में छूट के लिए 

कुछ इनकम ऐसी होती हैं जिन पर कोई इनकम टैक्‍स नहीं लगता है,  जैसे- पेंशन से होने वाली इनकम या टैक्‍स फ्री Gratuity या शेयर से होने वाले लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्‍स। ऐसे में अधिकतर लोग इसकी जानकारी अपने इनकम टैक्स रिटर्न में नहीं देते हैं। हालांकि ऐसा नहीं करना चाहिए। सरकार किसी भी व्‍यक्ति की आय को उसके PAN Number के जरिए AIR (Annual Information Report) से ट्रैक करती है। ऐसे में इस इनकम की जानकारी नहीं होने पर इनकम टैक्‍स विभाग से नोटिस मिल सकता है। इससे बचने के लिए इसका सबसे अच्‍छा उपाय है, ITR फाइल कर इस तरह की इनकम की जानकारी देना। ऐसा कर आप बाद में आने वाली किसी भी दूसरी परेशानी से बच सकते हैं।

विदेश में Asset होने पर ITR फाइल करना आवश्यक

अगर आपकी इनकम टैक्‍सेबल ब्रैकेट में नहीं है। लेकिन विदेश में आपके नाम की प्रॉपर्टी या विदेशी बैंक में अकाउंट है तो आपके लिए ITR भरना जरुरी है। Income Tax Department विदेश की प्रॉपर्टी पर विशेष नजर रखता है। अगर आपके पास विदेश में asset है तो आपको इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करना जरूरी होता है। इस ITR में आपको विदेश में अपनी सभी संपत्ति का ब्यौरा और अकाउंट की जानकारी देनी होगी।

Income Proof बताने के लिए

किसी भी व्‍यक्ति के आय का सबूत बताने का सबसे बेस्ट लीगल डॉक्युमेंट Income Tax Return है। आपकी सालाना आय क्‍या है, इसकी जानकारी देने में इनकम टैक्‍स रिटर्न सबसे अहम डॉक्युमेंट माना जाता है। अगर  आपके पास पिछले तीन सालों का ITR है तो बैंक लोन, क्रेडिट कार्ड देने में देरी नहीं करते हैं। इनकम टैक्स रिटर्न नहीं होने पर लोन या क्रेडिट कार्ड मिलने में समस्या होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *